Government Office Working, Uncategorized

प्रधानमंत्री श्रम योगी मान-धन (PM-SYM) योजना

Brief on Pradhan Mantri Shram Yogi Maan-dhan (PM-SYM)
– A pension scheme for unorganised workers
The scheme is meant for old age protection and social security of Unorganised Workers (UW)
who are mostly engaged as rickshaw pullers, street vendors, mid-day meal workers, head
loaders, brick kiln workers, cobblers, rag pickers, domestic workers, washer men, home-based
workers, own account workers, agricultural workers, construction workers, beedi workers,
handloom workers, leather workers, audio- visual workers or in similar other occupations.
Eligibility Criteria
 Should be an unorganised worker (UW)
 Entry age between 18 and 40 years
 Monthly Income Rs 15000 or below
Should not be
 engaged in Organized Sector (membership of EPF/NPS/ESIC)
 an income tax payer
He/ She should possess
1. Aadhar card
2. Savings Bank Account / Jan Dhan account number with IFSC

चर्चा में क्यों?

श्रम और रोज़गार मंत्रालय (Ministry of Labour and Employment) ने प्रधानमंत्री श्रम योगी मान-धन [Pradhan Mantri Shram Yogi Maan-dhan (PM-SYM)] योजना लॉन्च की है। अंतरिम बजट में घोषित इस योजना को श्रम मंत्रालय द्वारा हाल ही में अधिसूचित किया गया है।

योजना के पात्र

  • इस योजना के पात्र18-40 वर्ष की आयु समूह के घर से काम करने वाले श्रमिक, स्ट्रीट वेंडर, मिड डे मील श्रमिक, सिर पर बोझ ढोने वाले श्रमिक, ईंट-भट्टा मज़दूर, चर्मकार, कचरा उठाने वाले, घरेलू कामगार, धोबी, रिक्शा चालक, भूमिहीन मज़दूर, खेतिहर मज़दूर, निर्माण मज़दूर, बीड़ी मज़दूर, हथकरघा मज़दूर, चमड़ा मज़दूर, ऑडियो-वीडियो श्रमिक तथा इसी तरह के अन्य व्यवसायों में काम करने वाले ऐसे श्रमिक होंगे जिनकी मासिक आय 15,000 रुपए या उससे कम है।
  • पात्र व्यक्ति को नई पेंशन योजना (New Pension Scheme-NPS), कर्मचारी राज्य बीमा निगम (Employees’ State Insurance Corporation-ESIC) और कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (Employees’ Provident Fund Organisation-EPFO) के लाभ के अंतर्गत कवर न किया गया हो तथा उसे आयकर दाता नहीं होना चाहिये।

योजना की प्रमुख विशेषताएँ

न्यूनतम निश्चित पेंशन (Minimum Assured Pension) : PM-SYM के अंतर्गत प्रत्येक अभिदाता को 60 वर्ष की उम्र पूरी होने के बाद प्रति महीने न्यूनतम 3,000 रुपए की निश्चित पेंशन मिलेगी।

परिवार को पेंशन (Family Pension) : यदि पेंशन प्राप्ति के दौरान अभिदाता (subscriber) की मृत्यु हो जाती है तो लाभार्थी को मिलने वाली पेंशन की 50 प्रतिशत राशि फैमिली पेंशन के रूप में लाभार्थी के जीवनसाथी (Spouse) को मिलेगी।

  • परिवार पेंशन/फैमिली पेंशन केवल जीवनसाथी के मामले में लागू होती है।
  • यदि लाभार्थी ने नियमित अंशदान किया है और किसी कारणवश उसकी मृत्यु (60 वर्ष की आयु से पहले) हो जाती है तो लाभार्थी का जीवनसाथी योजना में शामिल होकर नियमित अंशदान करके योजना को जारी रख सकता है या योजना से बाहर निकलने और वापसी के प्रावधानों के अनुसार योजना से बाहर निकल सकता है।

अभिदाता द्वारा अंशदानः अभिदाता का अंशदान उसके बचत बैंक खाता/जनधन खाता से ऑटो डेबिट’ (auto-debit) सुविधा के माध्यम से किया जाएगा। PM-SYM योजना में शामिल होने की आयु से 60 वर्ष की आयु तक अभिदाता को निर्धारित अंशदान राशि देनी होगी।योजना में प्रवेश के दौरान आयु के अनुसार विशेष मासिक अंशदान का विवरण इस प्रकार हैः

प्रवेश आयु  योजना पूरी होने के समय आयु सदस्य का मासिक अंशदान (रुपए में)  केंद्र सरकार का मासिक अंशदान (रुपए में)  कुल मासिक अंशदान (रुपए में)
(1) (2) (3) (4) (5)= (3)+(4)
18 60 55 55 110
19 60 58 58 116
20 60 61 61 122
21 60 64 64 128
22 60 68 68 136
23 60 72 72 144
24 60 76 76 152
25 60 80 80 160
26 60 85 85 170
27 60 90 90 180
28 60 95 95 190
29 60 100 100 200
30 60 105 105 210
31 60 110 110 220
32 60 120 120 240
33 60 130 130 260
34 60 140 140 280
35 60 150 150 300
36 60 160 160 320
37 60 170 170 340
38 60 180 180 360
39 60 190 190 380
40 60 200 200 400

 

केंद्र सरकार द्वारा बराबर का अंशदान (Matching contribution by the Central Government) : PM-SYM 50:50 के अनुपात आधार पर एक स्वैच्छिक तथा अंशदायी पेंशन योजना है, जिसमें निर्धारित आयु विशेष अंशदान (Age-Specific Contribution) लाभार्थी द्वारा किया जाएगा और तालिका के अनुसार बराबर का अंशदान केंद्र सरकार द्वारा किया जाएगा।

  • उदाहरण के तौर पर यदि किसी व्यक्ति की आयु 29 वर्ष है तो उसे 60 वर्ष की आयु तक प्रति महीने 100 रुपए का अंशदान करना होगा। केंद्र सरकार द्वारा बराबर का यानी 100 रुपए का अंशदान किया जाएगा।

PM-SYM योजना के अंतर्गत नामांकनः

  • अभिदाता के पास मोबाइल फोन, बचत बैंक खाता तथा आधार संख्या होना अनिवार्य है। पात्र अभिदाता नज़दीकी सामुदायिक सेवा केंद्रों (Community Service Centers-CSCs) पर जाकर आधार संख्या तथा बचत बैंक खाता/जनधन खाता संख्या को स्वप्रमाणित करके PM-SYM के लिये नामांकन करा सकते हैं।
  • बाद में अभिदाता को PM-SYM वेब पोर्टल पर जाने तथा मोबाइल एप डाउनलोड करने की सुविधा दी जाएगी और अभिदाता आधार संख्या /स्वप्रमाणित आधार पर बचत बैंक खाता/जनधन खाता का इस्तेमाल करते हुए अपना पंजीकरण करा सकते हैं।

नामांकन एजेंसियाँ (Enrollment Agencies)

  • इस योजना के लिये नामांकन का कार्य सामुदायिक सेवा केंद्रों (CSCs) द्वारा किया जाएगा।
  • असंगठित श्रमिक आधार कार्ड तथा बचत बैंक खाता, पासबुक/जनधन खाता के साथ नज़दीकी CSCs जाकर योजना के लिये अपना पंजीकरण करा सकते हैं।
  • पहले महीने में अंशदान राशि का भुगतान नकद करना होगा और इसकी रसीद दी जाएगी।

सहायता केंद्र

  • भारतीय जीवन बीमा निगम (Life Insurance Corporation-LIC) के सभी शाखा कार्यालयों, ESIC/EPFO के कार्यालयों तथा केंद्र तथा राज्य सरकारों के सभी श्रम कार्यालयों द्वारा असंगठित श्रमिकों को योजना, उसके लाभों तथा प्रक्रियाओं के बारे में बताया जाएगा।

कोष प्रबंधन (Fund Management) : PM-SYM केंद्र की योजना है, जिसका संचालन श्रम और रोज़गार मंत्रालय द्वारा किया जाएगा तथा भारतीय जीवन बीमा निगम और CSC के माध्यम से लागू किया जाएगा।

  • LIC पेंशन फंड मैनेजर (Pension Fund Manager) होगी और पेंशन भुगतान के लिये उत्तरदायी होगी।
  • PM-SYM पेंशन योजना के अंतर्गत एकत्रित राशि का निवेश भारत सरकार द्वारा निर्दिष्ट निवेश तरीकों के अनुसार किया जाएगा।

योजना से बाहर निकलने और वापसी संबंधी प्रावधान (Exit and Withdrawal) : असंगठित क्षेत्र के मज़दूरों के रोज़गार के अनिश्चित स्वभाव को देखते हुए योजना से बाहर निकलने के प्रावधान लचीले रखे गए हैं जो इस प्रकार हैं-

  • यदि अभिदाता 10 वर्ष से कम की अवधि में योजना से बाहर निकलता है तो उसे केवल लाभार्थी के अंशदान के हिस्से को बचत बैंक ब्याज दर के साथ दिया जाएगा।
  • यदि अभिदाता 10 वर्षों या उससे अधिक की अवधि के बाद लेकिन 60 वर्ष की आयु से पहले योजना से बाहर निकलता है तो उसे लाभार्थी के अंशदान के हिस्से के साथ कोष द्वारा अर्जित संचित ब्याज के साथ या बचत बैंक ब्याज, दर जो भी अधिक हो, के साथ दिया जाएगा।
  • यदि लाभार्थी ने नियमित अंशदान किया है और किसी कारणवश उसकी मृत्यु हो जाती है तो उसका जीवनसाथी नियमित अंशदान करके इस योजना को आगे जारी रख सकता है या कोष द्वारा अर्जित एकत्रित वास्तविक ब्याज या बचत बैंक ब्याज दर, जो भी अधिक हो, के साथ लाभार्थी का अंशदान लेकर योजना से बाहर निकल सकता है।
  • यदि लाभार्थी ने नियमित अंशदान किया है और 60 वर्ष की आयु से पहले किसी कारणवश स्थायी रूप से दिव्यांग हो जाता है और योजना के अंतर्गत अंशदान करने में अक्षम होता है तो उसका जीवनसाथी नियमित अंशदान करके इस योजना को आगे जारी रख सकता है या कोष द्वारा अर्जित एकत्रित वास्तविक ब्याज या बचत बैंक ब्याज दर, जो भी अधिक हो, के साथ लाभार्थी का अंशदान प्राप्त कर योजना से बाहर निकल सकता है।
  • अभिदाता और उसके जीवनसाथी दोनों की मृत्यु के बाद संपूर्ण राशि कोष में जमा करा दी जाएगी।
  • NSSB की सलाह पर सरकार द्वारा तय योजना से बाहर निकलने का कोई अन्य प्रावधान।

अंशदान में चूकः

  • यदि अभिदाता ने निरंतर अपने अंशदान का भुगतान नहीं किया है तो उसे सरकार द्वारा निर्धारित दंड राशि के साथ पूरी बकाया राशि का भुगतान करके अंशदान को नियमित करने की अनुमति होगी।

पेंशन भुगतानः

  • 18-40 वर्ष की प्रवेश आयु में योजना में शामिल होने के बाद 60 वर्ष की उम्र तक तक लाभार्थी को अंशदान करना होगा। 60 वर्ष की उम्र पूरी होने पर अभिदाता को परिवार पेंशन लाभ के साथ प्रति महीने 3000 रुपए की निश्चित मासिक पेंशन प्राप्त होगी।

संदेह तथा स्पष्टीकरणः

  • योजना को लेकर किसी तरह के संदेह की स्थिति में JS & DGLW (Joint Secretory & Directorate General Labour Welfare) द्वारा दिया गया स्पष्टीकरण अंतिम होगा।

PM-SYM योजना के अंतर्गत निर्धारित ब्याज दर

  • हालाँकि यह योजना भारतीय जीवन बीमा निगम द्वारा चलाई जाएगी लेकिन भारतीय बीमा विनियामक और विकास प्राधिकरण (Insurance Regulatory and Development Authority of India) ने अभी तक इसके परिचालन के पहले साल के ब्याज दर की घोषणा नहीं की है।
  • यह संभव है कि PM-SYM को अधिक आकर्षक बनाने के लिये इसकी ब्याज दर को लगभग संगठित क्षेत्र के पेंशन फंड की दर के समान रखा जाए।

PM-SYM कैसे अलग है अटल पेंशन योजना से?

  • PM-SYM,अटल पेंशन योजना जिसकी शुरुआत वर्ष 2015 में की गई थी, का एक बेहतर संस्करण है।
  • अटल पेंशन योजना के तहत ब्याज दर लगभग 5% है लेकिन PM-SYM को अधिक आकर्षक बनाने के लिये इसकी ब्याज दर को अटल पेंशन योजना की ब्याज दर से अधिक रखा जा सकता है।
  • अटल पेंशन योजना की शुरुआत आर्थिक रूप से पिछड़े वर्ग को पेंशन अथवा वृद्धावस्था में आय सुरक्षा के दायरे में लाने के उद्देश्य से की गई थी, जबकि प्रधानमंत्री श्रम मान-धन योजना की शुरुआत असंगठित क्षेत्र के कामगारों के लिये की गई है। उल्लेखनीय है कि देश के असंगठित क्षेत्र में लगभग 42 करोड़ श्रमिक काम करते हैं।

स्रोत : पी.आई.बी

Advertisements
Government Office Working

Doorstep Delivery of Public Service

Services at your doorstep to be reality today

New Delhi:

The AAP government will on Monday roll out its ambitious project of delivering several public services at the doorstep of residents. Chief minister Arvind Kejriwal, with his cabinet colleagues, will inaugurate the project at Delhi Secretariat. The programme will be broadcast live at 47 government offices in the capital.

Some of the important facilities that will be available to residents at their doorstep are issuance of caste certificate, marriage registration certificate and income certificate, learner’s and permanent driving licence, removal of hypothecation and change of address in vehicle registration certificate, and water and sewer connections.

According to a senior Delhi government official, an applicant will have to contact the call centre where the executive will give him a list of documents required for availing a particular service. Once the applicant has readied all documents, he can contact the call centre again and fix the date and time for a “mobile sahayak” to visit his residence. The sahayak will pick up the documents, along with the filled-up application form, and collect the requisite fee and facilitation charges. The executive will also take the biometrics of the applicant and scan his signatures. Once the certificate is ready, it will be delivered at the registered address.

Officials said the service would help reduce rush at government offices and completely eliminate the role of the middlemen or touts. “The government has tied up with VFS Global. Their executives have been trained to provide this service,” the official said.

Kejriwal had earlier called the scheme a “revolution in governance” and a “big blow to corruption”.

डोर स्टेप डिलेवरी योजना आज से होगी शुरू 

नई दिल्ली | दिल्ली सरकार की बहुप्रतीक्षित डोर स्टेप डिलीवरी ऑफ पब्लिक सर्विस के प्रथम चरण का शुभारंभ सोमवार सुबह सीएम अरविंद केजरीवाल करेंगे। इसमें दिल्ली सरकार की 40 सर्विसेज लोगों को घर पर ही मिलने लगेंगी। योजना के तहत 1076 पर कॉल करके सुविधा अनुसार लाइसेंस, प्रमाण पत्र बनाने के लिए मोबाइल सहायक को बुलाना होगा। जो प्रमाण पत्र का सत्यापन करने के बाद सर्टिफिकेट बना कर घर पहुंचाएगा। इस सेवा के लिए जनता को 50 रुपए की राशि देनी होगी। योजना दो चरणों में लागू होगी। सचिवालय में आयोजित होने वाले शुभारंभ कार्यक्रम का लाइव टेलीकास्ट किया जाएगा। सरकार का मानना है कि योजना के शुरू होने से जनता का सरकारी दफ्तर के चक्कर लगाने का समय और भ्रष्टाचार पर लगाम लगेगी।
Government Office Working

Fake Pension: Village of Senior Citizens

मां 83 की, बेटा 70 का…! पेंशन के लिए अचानक बूढे़ हो गए राज्य के ये बीस गांव

आनंद चौधरी | जयपुर

क्या आपको पता है? राज्य में कुछ ऐसे गांव हैं जो रातों-रात बूढ़े हो गए हैं। यकीन मानिए इसका फ्लोराइड युक्त पानी, कुपोषण से कोई संबंध नहीं है। पैसा खाकर और खिलाकर उम्र बढ़ाने का गोरखधंधा चल रहा है। जी हां! महज पांच सौ रुपए की वृद्धावस्था पेंशन के लिए गांव के अच्छे खाते-पीते मर्द और औरतें कागजों में बुजुर्ग बन रहे हैं। इतने बुजुर्ग की मां 83 की, बेटा 70 साल का। जयपुर से महज 40-45 किमी दूर दूदू पंचायत समिति में ऐसे करीब 20 गांव हैं, जहां बुजुर्गों के हक का पैसा मिल बांटकर खाया जा रहा है। शुरुआती तौर पर ऐसे 1500 लोगों के नाम सामने आए हैं। भास्कर के पास 750 से ज्यादा ऐसे लोगोें की सूची है जिन्होंने भामाशाह, आधार जैसे दस्तावेजों में फेरबदल कर उम्र बढ़वाकर पेंशन का लाभ लिया है। इसमें सबसे बड़ी भूमिका ई मित्र संचालक और पोस्टमैन की है। जिन्होंने आधार और भामाशाह में एडिटिंग कर हजारों लोगों की उम्र 25 से 30 साल तक बढ़ा दी।
आधार में 48, लेकिन पेंशन में उम्र 70 साल
दूदू तहसील के बोकड़वास गांव के रघुवीर सिंह की उम्र राशन कार्ड में 43 साल, आधार कार्ड में 48 साल और पेंशन पीपीओ के अनुसार 70 साल है। पेंशन पीपीओ के अनुसार रघुवीर सिंह की मां गंद कंवर की उम्र 83 साल है।
40 साल की भंवरी तीन हजार में 55 की हो गई
नीमली गांव की भंवरी देवी की उम्र यूं तो 40 साल है लेकिन छह माह से खुद को 55 का बताकर वृद्धावस्था पेंशन ले रही हैं। तीन हजार रुपए लेकर ईमित्र संचालक और पोस्टमैन ने उनकी उम्र 15 साल बढ़ा दी।
सास 64 की, बहू 56 और बेटा 44 का
बोकड़ावास की लक्ष्मी पत्नी हरिसिंह की राशन कार्ड में उम्र 36 है। पेंशन के लिए उनकी उम्र अब 56 है। इस लिहाज से लक्ष्मी की सास तोफ कंवर (64) उनसे 8 साल बड़ी हैं। लक्ष्मी बताती हैं- 3 लोगों की पेंशन के लिए ई मित्र संचालक कानाराम को 9 हजार रु. दिए।
Government Office Working, Transport

RTO: Fitness Test and Eye Wash

जिस स्कूल बस को फिट बताया, उसी की स्टेयरिंग रॉड टूटी, बस पलटने से 12 घायल

कवर्धा| बिरकोना के ज्ञानदीप पब्लिक स्कूल की बस का स्टेयरिंग रॉड टूटने से मंगलवार सुबह साढ़े 10 बजे पिपरिया में पलट गई। उस समय बस में 30 बच्चे थे। इनमें 12 बच्चों को चोटें आई हैं। पिपरिया सामुदायिक अस्पताल में प्राथमिक उपचार के बाद इन बच्चों को छुट्टी दे दी गई। खास बात ये है कि एक महीने पहले कोतवाली थाना परिसर में स्कूल बसों की फिटनेस जांच हुई थी। तब आरटीआे अफसरों ने ज्ञानदीप पब्लिक स्कूल के इस बस को पुरी तरह फिट बताते हुए क्लीन चिट दे दी थी।
घायल छात्रा।
कवर्धा| बिरकोना के ज्ञानदीप पब्लिक स्कूल की बस का स्टेयरिंग रॉड टूटने से मंगलवार सुबह साढ़े 10 बजे पिपरिया में पलट गई। उस समय बस में 30 बच्चे थे। इनमें 12 बच्चों को चोटें आई हैं। पिपरिया सामुदायिक अस्पताल में प्राथमिक उपचार के बाद इन बच्चों को छुट्टी दे दी गई। खास बात ये है कि एक महीने पहले कोतवाली थाना परिसर में स्कूल बसों की फिटनेस जांच हुई थी। तब आरटीआे अफसरों ने ज्ञानदीप पब्लिक स्कूल के इस बस को पुरी तरह फिट बताते हुए क्लीन चिट दे दी थी।
दुर्घटनाग्रस्त स्कूल बस।