Uncategorized

Business Brand- Products on Fire

बरबेरी ने 250 करोड़ के बिना बिके प्रोडक्ट जला दिए

एजेंसी | लंदन

ब्रिटेन के लग्जरी ब्रांड बरबेरी ने माना है कि उसने पिछले साल करीब 251 करोड़ रुपए के प्रोडक्टस जला दिए। इनमें 90 करोड़ रुपए के परफ्यूम व कॉस्मेटिक्स भी शामिल थे। कहा जा रहा है कि कंपनी ने कम दाम पर बेचने के बजाए उत्पादों को इसलिए नष्ट किया ताकि ब्रांड की शान बनी रहे। कई दिग्गज लग्जरी ब्रांड भी ऐसा करते रहे हैं। ब्रांड की शान बचाने के अलावा इसमें बिजनेस भी जुड़ा हुआ है। क्योंकि इन प्रोडक्ट्स को नष्ट करने से चुकाई गई ड्यूटी वापस मिल जाती है, और भी कारण हैं, पढ़िए विस्तार से…
दिग्गज लग्जरी ब्रांड्स का तर्क- प्रोडक्ट की नकल न बन पाए और उन्हें सस्ते में न बेचना पड़े, इसलिए डिस्पोज कर देते हैं
ब्रांड की शान बचाने के साथ-बिजनेस भी; बरबेरी के अलावा लुई वितों, शनेल, और एचएंडएम भी प्रोडक्ट नष्ट करते रहे हैं
टीवी स्टिंग में खुलासा : स्वीडन की एचएंडएम पांच साल में 60 टन नए कपड़े डिस्पोजल कंपनी को दे चुकी है
लुई वितों | प्रोडक्ट नष्ट करने के बाद ड्यूटी ड्रॉबैक से हो जाती है भरपाई
फ्रांस का लग्जरी ब्रांड लुई वितों भी अनबिके बैग्स और प्रोडक्ट्स हर साल जला देता है। कंपनी का मानना है कि सभी ग्राहकों को समान दाम में कंपनी के प्रोेडक्ट मिलने चाहिए। अमेरिका के ‘ड्यूटी ड्रॉबैक’ नियम के मुताबिक जो भी प्रोडक्ट आयात किया जाता है, उस पर ड्यूटी चुकाई जाती है। यदि वह प्रोडक्ट नहीं बिकता है और उसे नष्ट किया जाता है तो ड्यूटी वापस मिल जाती है। इससे बहुत हद तक कंपनियों को हुए घाटे की भरपाई हो जाती है। लुई वितों के बैग्स पर औसत 15-25% ड्यूटी है।
शनेल |बर्बाद करने से प्रोडक्ट की नकल की संभावना खत्म हो जाती है
शनेल भी सीजन के अंत में बचे हुए परफ्यूम, कॉस्मेक्टिक्स और पर्स व बैग जैसी एक्सेसरीज को जला देती है। कंपनी का तर्क है कि उनके प्रोडक्ट महंगे हैं और विशेष वर्ग के लिए हैं। ऐसे में उन्हें सस्ता बेचने या रखने पर उनकी नकल की संभावना है। कंपनी का कहना है कि यह ब्रांड सिर्फ कुछ खास लोगों के लिए है, यह यूनीकनेस बनी रहनी चाहिए। इसके अलावा कॉस्मेटिक्स निश्चित समय के बाद अनुपयोगी हो जाते हैं। ऐसे में उन्हें नष्ट करना ही बेहतर विकल्प है।
एचएंडएम |12 टन नए कपड़े हर साल जलाती है स्वीडन की फैशन रिटेलर
स्वीडिश फैशन रिटेलर एचएंडएम हर साल करीब 12 टन कपड़े जला देती है। ये सभी नए कपड़े होते हैं और इनकी बिक्री नहीं हो पाती है। 2013 से 2017 के बीच करीब 60 टन कपड़े डेनमार्क की डिस्पोजल कंपनी को नष्ट करने के लिए दिए गए। डेनमार्क के एक टीवी प्रोग्राम ऑपरेशन एक्स में इस बात का खुलासा हुआ था। स्टिंग में पता चला था कि टैग लगे करीब 30 हजार काउबॉय थीम वाले ट्राउजर और लेडीज जींस वेस्ट डिस्पोजल कंपनी कारा को दिए गए थे।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s